Friday, July 3, 2009

Kash Ye Waqt Yun Hi Tham Jaye

ये ज़मीन ये आसमान,
और ये सारा जहाँ,
चेहका सा है, महका सा है,
आज मिली है ऐसी ख़ुशी,
की दिल ये मेरा बहका सा है..

सागर की लहरें, फूलों के रंग,
पंछियों की आहट, सब हैं मेरे संग..

जाने कौन वो गीत गा रहा था,
जो दिल को यूँ भा रहा था,
जाने कौन था वो माझी,
जो मन की नैया पार लगा रहा था..

कौन था वो जो ज़िन्दगी में आया,
तो ज़िन्दगी बदल गयी..
जो दिल में समाया,
तो हर ख़ुशी जहाँ में समा गयी..

हमारी ख़ुशी का राज़,
शायद हमें ही नहीं पता..
जब हम होश में ही नहीं,
तो क्या है हमारी खता..

अब जाना कि दर्द में भी इक सुकून है,
खामोश निगाहों में अजब सा जूनून है..
बस ये वक़्त यूँ ही थम जाये
काश ! ये वक़्त यूँ ही थम जाये..


Widget on
If you enjoyed this article then kindly take 5 seconds to share it!!

12 comments:

Sakshi said...

its nice
gud effort :)

thisisankur said...

sweet and simple ! :)

nice work..!

enjoyed reading..!!~~

Shanks said...

good yaar mast hai :D. i liked it :)

Neha Goel said...

congrats on ur 1st post..
very well written..luved it:-)

pallavi said...

it's fantastic sonia!!i m so ur fan!!

akansha said...

woh! its really good...

Sonia said...

thanks a lot ...... m really glad that all of you liked it so much.... thanks...

litsi said...

work off apreciation

sanauwer said...

nice poem...

Anmol said...

copyrights le hi le iske tu.

Sonia said...

@ anmol

yar not gettin words to thank you..... kya comment tha bhai.....

Vini said...

gr8...such an nice poem..took me altogethr to a diff world..awesummmmm....luvd it soo mch....

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...